Menu
Cart 0
Share on WhatsApp

सही इन्वर्टर का चुनाव कैसे करे

Posted by Gaurav Mehta on

Inverter Battery

अपने घर व कार्यस्थल के लिए सही इन्वेर्टर और बैटरी का चयन कैसे करे?

यदि आप नए इन्वर्टर या बैटरी लगवाना चाह रहे है या आपने पुराने वाले को ही बदलना चाह रहे है,चाहे कोई भी कारण हो, आपके लिए यह जानना जरुरी है की आपके लिए सही उत्पाद कौन सा है और कौन सा नहीं

तो यदि आप यही जानना चाहते है क्या आपके लिए सही है और क्या नहीं तो उसके लिए जरुरी है की आपको तीन बातो की जानकारी हो जो निमिन्लिखित है

  • आपकी ऊर्जा आवश्यकता कितनी है?
  • अपनी आवश्यकता अनुसार वाल्ट एम्पेयर रेटिंग की जानकारी ?
  • आपके इन्वर्टर के अनुसार आपके लिए कौन सी बैटरी सही रहेगी?

 तो आइये जानते है आपके ऊर्जा आवश्यकता के बारे में?

इन्वर्टर या बैटरी खरीदने के लिए हमारा ये जानना जरुरी है की हमारी आवश्यकता कितनी है,

आसान भाषा में कहे तो "हम कितने बल्ब , पंखे, ट्यूबलाइट, टी.वी., कंप्यूटर, फ्रिज, या ऐ सी, या कूलर चलाना चाहते है" या बाकी भी ऐसे कौन कौन से उपकरण है जिन्हे आप लाइट जाने के समय भी उपयोग करना चाहते है, ऊर्जा आवश्यकता इन्ही सब उपकरणों द्वारा उपभोग करी गयी ऊर्जा का जोड़ है

 मान लीजिये की आप तीन पंखे, तीन ट्यूबलाइट, आठ बल्ब एक टी. वी. इत्यादि, उपकरण चलाना चाहते है, तो इन सभी उपकरणों के जोड़ को ही ऊर्जा आवश्यकता कहते है,

 

  • इन सभी उपकरणों की ऊर्जा निम्नलिखित है

          उपकरण                             मात्रा                            ऊर्जा 

  • पंखा एक                            70 वाट
  • ट्यूबलाइट एक                             40 वाट
  • एल इ डी एक                              7 वाट
  • टी. वि. एक                              70 वाट
  • फ्रिज एक                             140 वाट

 

अतः आपकी ऊर्जा आवश्यकता होती है,

[(3*70)+(3*40)+(8*7)+(1*70)+(1*140)]

                      =596 वाट

 

कौन सा इन्वर्टर या कितने वाल्ट एम्पेयर का इन्वर्टर आपके लिए सही रहेगा?

 - वोल्ट एम्पेयर का मतलब होता है वह वोल्टेज या  करंट जो हमारे इन्वर्टर से हमारे उपकरणों तक पहुँचता है व्यावहारिक तौर पर एक उपकरण ज्यादा वोल्टेज लेता है वोल्टस के अनुसार, और इसी अनुपात को हम कहते है, "शक्ति गुणांक" यानि "पावर फैक्टर"

अतः एवं,,

 बिजली आपूर्ति = ऊर्जा  आवश्यकता

 आमतौर पर घरो में, शक्ति गुणांक की सीमा 0.65-0.8, रहती है इसलिए हम एक अंदाजे से हम 0.7 ले लेते है

 इसलिए घरो में आमतौर पर 900 वाल्ट एम्पेयर” का इन्वर्टर ही सही रहता है

 आइये जानते है की कौन सी बैटरी आप के लिए अच्छी रहेगी|

  • किसी भी इन्वर्टर का प्रदर्शन उसकी बैटरी पर ही निर्भर करता है|

बैटरी वह उत्पाद है जो की अपने अंदर ऊर्जा को  स्थापित करता है और उसी ऊर्जा से वो हमारे उपकरणों का संचालन भी करता है| तभी सवाल आता है की हमे ज्यादा से ज्यादा कितना समर्थन एक इन्वर्टर से प्राप्त होता है? या हम कितनी देर तक अपने उपकरणों का इस्तेमाल कर सकते है? तो यह सब निर्भर करता है बैटरी पर और उसकी क्षमता पर, जिसकी इकाई होती है (AH) यानी एम्पेयर 

ऑवर.

 लुमिनोस बैटरी 60Ah से 220Ah  तक उपलबध है, तो यह हमे खुद ही देखना है की हमारे लिए कौन सा उत्पाद सही है| तो आइये हम इसकेलिए हम एक गणना करता है, समझे लीजिए के आप एक १-२ घंटे का समर्थन चाहते है अपने  उपकरण का प्रयोग करने का लिए वो भी एक 851VA  (596 वाट) के बोझ पर,

 बैटरी क्षमता = ऊर्जा आवश्यकता*समर्थन के घंटे / Battery वोल्टेज

 लीड  एसिड बैटरी के लिए , बैटरी  वोल्टेज = 12 volt

 बैटरी क्षमता = (851*2)/ 12=142 Ah

 असलियत में हमारा इस्तेमाल ही बैटरी की क्षमता का प्रदर्शन का अनादर करता है और उसको गिराता भी है, इसीलिए हम आपको सिफारिश  करते है की अपने इस्तेमाल के अनुसार 5-10% ज्यादा की ही बैटरी ले|

 तथैव:,

जो बैटरी 150 AH  की होगी वही आपके लिए उच्चतम उत्पाद रहेगी|

 तो यदि आप 3 पंखे,3 ट्यूब, ८al ी डी बल्ब, 1 टीवी, 1 फ्रिज इत्यादि चालाना चाहते है सिर्फ 2 घंटे के लिए तो आपको 900 VA  का इन्वर्टर और 150 Ah का बैटरी ही लेना पड़ेगा|

 एक बैटरी या २ बैटरी

 तो अब आप मान लीजिये के  यही समर्थन आपको पूरे  4 घंटे के लिए चाहिए तो,

 बैटरी क्षमता आवश्यकता= (851*4)/12 =284 AH ≅300 AH

 परन्तु यहाँ तो बैटरी 60 Ah- 220 Ah के ही है, तो आपको २ बैटरी अनुक्रम में लगनी पड़ेगी, क्योकि 2 बैटरी एक साथ 24 वोल्ट का उत्पादन करती है,

 बैटरी प्लेट के प्रकार:-

 

लीड एसिड बैटरी:- आमतौर पर दो तरह की बैटरी आती है

  • फ्लैट प्लेट यानि चपटी प्लेट
  • ट्यूबूलर (रॉड शेप्ड) प्लेट्स यनि लम्बी प्लेट

 

  • फ्लैट प्लेट:- यह असल में छोटी उचाई व छोटे पात्र वाली बटेरी होती है, जो की कम बजली जाने वाले क्षेत्र के घरो में लगाई जाती है इनका जीवनकाल ज्यादा समय का लिए नहीं होता|

 

  • ट्यूबूलर बैटरी:- यह वो बैटरी है जिसमे लम्बा पात्र, ज्यादा जीवनकाल, ज्यादा समर्थन प्राप्त होते है|

 

अपनी इसी खूबी के कारण अब यह बैटरी  फ्लैट प्लेट बैटरी की जगह लेती जा रही है|

 

प्लेट्स आमुमन प्योर लीड के द्वारा बनाई जाती है| जिनको मशीनों से इस तरह तैयार कर दिया जाता है| की वह ज्यादा जीवनकाल तक बिना किसी खर्च के समर्थन देती रहे|

 

अन्य विशेषताएं :- बैटरी लेते समय किन-किन  बातो और विशेषताओं का ध्यान रखे, वह निम्लिखित है:-

 

  1. आश्वासन:- ज्यादा आश्वासन सदैव जीवनकाल उपलब्द कराती है, यह १२ महीने से २४  महीने  तक  कम से कम होनी चाहिए

 

  1. प्रवहमान सूचक वायु के छिद्र:- प्रवहमान सूचक का काम है बैटरी का पानी की सूचना देते रहना तथा वायु के छिद्रो का काम है  की बैटरी में बनने वाली रासायनिक गैस को समय -समय पर बाहर निकालना|

 

  1. सात्रिक सहयाता:- बैटरी सदैव सात्रिक सहयाता के साथ आनी चाहिए| क्योकि यही ग्राहक को विघुत का झटका लगने से बचाते है|

 


Share this post



← Older Post Newer Post →


Leave a comment